एस.एस.आर.आय. (एक प्रकार की अवसाद प्रतिरोधक दवा)
प्र : कृप्या  पहले ये बताएँ कि हमें इस दवा के बारे में जानने की क्या आवश्यकता है ?

Ø  इस दवा के बारे में जानना लोगों के लिए बहुत उपयोगी है, खासकर जो रोगी अवसाद या चिंता-घबराहट के शिकार है.


प्र : एस.एस.आर.आय. का क्या मतलब है ?

Ø  एस.एस.आर.आय. का मतलब है: “सेलेक्टिव सेरोटोनिन रीअपटेक इनहिबिटर” यानि साधारण शब्दों में ये दवा दिमाग में सेरोटोनिन (एक केमिकल) का स्तर बढ़ाकर व्यक्ति की उदास मनोदशा (मूड) को ऊपर उठाता है.

Ø  इस वर्ग में कई दवाएं आती है, जैसे- फ्लुओजेटिन, सीटालोप्राम, एससीटालोप्राम, सरट्रालिन आदि. ये सभी जेनेरिक नाम है और विभिन्न कम्पनियाँ इसे अलग-अलग नाम से बनाती है.


प्र : आप एस.एस.आर.आय. के बारे में और क्या जानकारी देना चाहते हैं ?

Ø  आप यदि ये दवा ले रहे हैं तो इसे साधारणतः सुवह में लेना चाहिए क्योंकि ये आपको सतर्क बनाती है और ये आपकी नींद में वाधा डाल सकती है.

Ø  इन दवाओं को एकाएक बंद नहीं करना चाहिए. यदि आप इसको बंद करने जा रहे हैं तो धीरे-धीरे (क्रम से) ही बंद करें नहीं तो कई परेशानियां आ सकती है.

Ø  बच्चों और युवाओं में इस दवा से उग्रता में वृद्धि, वेचैनी, आत्महत्या के विचार जैसी शिकायतें हो सकती है, इसीलिए उनपर विशेष नज़र रखने की जरुरत है.


प्र : वेचैनी, उग्रता, आत्महत्या के विचार जैसे दुष्प्रभाव वाली दवा को देने की क्या जरूरत है ?

Ø  एस.एस.आर.आय. सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाली अवसाद प्रतिरोधक दवा है. हम इसका उपयोग अवसाद के ईलाज में प्रथम दवा के रूप में करते हैं क्योंकि ये दुष्प्रभाव सब लोगों को नहीं होता और ये साइड-इफेक्ट अस्थायी होता है.

Ø  > दवाई के बारे में और अधिक जानकारी के लिए अपने मनोचिकित्सक से सम्पर्क करें और दवाई के पत्रक को पढ़ें.